Keeping Leftover dough in the refrigerator invites Ghosts!

The indian culture is very rich and many things were defined intelligently but I believe our ancestors failed to pass the knowledge to us efficiently. For many things we just know that we should do this or not do this but nobody has ever taught us why? This  ‘leftover dough’ thingy troubles me sometime as I am really not sure if I should keep it in the fridge or should always kneed fresh? Like many homemakers I also keep the remaining dough in the refrigerator after making chapatis for lunch/dinner and use it the next day. But recently someone told me that according to scriptures this dough is considered as clod which is offered to feed the dead ancestors/ghosts in hindu customs. I would like to include this article in my collection as I am always curious about things 😉  So they say that the ghost, phantom and other upper winds starts to visit these houses which constantly or often keep such clods in the fridge for feeding.

Mostly they are souls that have forgotten by their family members or that couldn’t attain peace till now. With such Spirits, many problems like diseases, anger, sloth, etc. start coming in the house as well and also to those who live in the house promotion fade.

According to the scriptures one should not keep any such thing (like remaining dough) in the house to invite them in any way.

Making food out of this dough is not only harmful to health but also promotes Tamsik nature in family members. While the fresh made food gives your body the ambiance, power and health.

Given all these things, We must not keep the stale flour in our home!!! is it?? I leave the decision on you.


Read the article in Hindi : भूत-प्रेतो को निमंत्रण देता है घर के फ्रिज में रखा हुआ आटा ।

वर्तमान में बहुत सी गृहिणियां खाना बनाते समय रात को बचा हुआ अतिरिक्त आटा गोल लोई बनाकर उसे फ्रिज में रख देती है और उसका प्रयोग अगले दिन करती है। कई बार सुबह के समय भी आटा बचने पर ऎसा ही किया जाता है। धर्मशास्त्रों के अनुसार गूंथा हुआ आटा पिण्ड माना जाता है जिसे मृतात्मा के भक्षण के लिए अर्पित किया जाता है।

जिन भी घरों में लगातार या अक्सर गूंथा हुआ आटा फ्रिज में रखने की परंपरा बन जाती है वहां पर भूत, प्रेत तथा अन्य ऊपरी हवाएं भोजन करने के लिए आने लग जाती है। इनमें अधिकतर वे आत्माएं होती है जिन्हें उनके घरवालों ने भुला दिया या जिनकी अब तक मुक्ति नहीं हो सकी है। ऎसी आत्माओं के घर में आने के साथ ही घर में अनेकों समस्याएं भी आनी शुरू हो जाती हैं।

बचे हुए आटे को इस तरह रखने वाले सभी घरों में किसी न किसी प्रकार के अनिष्ट देखने को मिलते हैं। वहां अक्सर बीमारियां, क्रोध, आलस आदि बने रहते हैं और घर में रहने वालों की भी तरक्की नहीं हो पाती है।

शास्त्रों के अनुसार ऎसे किसी भी चीज को घर में स्थान नहीं देना चाहिए जो मृतात्माओं का भोजन हो अथवा उन्हें किसी भी प्रकार से आमंत्रित करने की क्षमता रखती हो। इसके ही रात के बासी बचे आटे से रोटी बनाना शरीर के लिए भी नुकसानदेह होता है। ऎसा भोजन तामसिकता को तो बढ़ावा देता ही है साथ में शरीर को भी रोगों का घर बना देता है जबकि ताजा बना भोजन शरीर को स्फूर्ति, शक्ति और स्वास्थ्य देता है।

इन सभी चीजों को देखते हुए हमें घर में बासी आटा नही रखना चहिये ।

share this!
Share On Twitter
Share On Linkedin
Share On Youtube
Contact us
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading...
Show Buttons
Share On Facebook
Share On Twitter
Share On Google Plus
Share On Linkedin
Share On Youtube
Contact us
Hide Buttons
error: Copy Protected!!